मीरा कांत लगभग दो दशक से निरंतर अपने कथा-साहित्य, नाटकों तथा कभी-कभार कविताई और निबंधों के माध्यम से सिर्फ़ हाशिए पर जगह पाने वाले निरूपाय मनुष्य की पीड़ा को नेपथ्य से मंच के बीचोबीच लाने में सचेष्ट हैं। संघर्षशील स्त्री और समाज की मुख्यधारा से छूटे हुए व्यक्ति इनके साहित्य की धुरी रहे हैं। यही कारण है इन्होंने उपेक्षित और प्रताड़ित नारी को केन्द्र में रखकर सृजन किया तो नाटककार भुवनेश्वर प्रसाद जैसी लगभग विस्तृत साहित्यिक प्रतिभा को याद करते हुए रचनात्मक जगत में विसंगतियों से जूझती प्रतिभाओं के दर्द को भी वाणी दी है। 

इन्होनें कश्मीरी डायस्पोरा तथा शारीरिक और मानसिक रूप से पिछ्ड़े हुए हतभाग्य व्यक्तियों की व्यथा को भी वाणी दी। इनका साहित्य सिर्फ़ ढर्रे से चले आ रहे मानव-संबंधों की कहानी नहीं है। वह मानव-संबंधों में व्याप्त सत्ता और अधिकार के संघर्ष के भंवर का सुराग भी ढूंढ़ता है।

मीरा कांत प्राय: गद्य लिखना पसंद करती हैं परन्तु किन्हीं अवसरों पर कुछ प्रसंग उन्हें इतना उद्वेलित व बेचैन कर देते हैं कि वे लम्बी कविताओं के रूप में भी उस दर्द की कहानी को काव्यात्मक सुरों में पेश करती हैं। उनकी इधर लिखी दो कविताओं में एक असम के संदर्भ में देश की सामाजिक-राजनैतिक शोषणकारी व्यवस्था को चुनौती देती है तो दूसरी कविता मर्द की निगाह में औरत की रूढिवादी छवि को खुलकर ललकारती है।

इधर वे रहस्यवादी मीरा घोषित की जाने वाली महादेवी वर्मा के प्रखर पत्रकार रूप को सामने लाने का उद्यम कर रही हैं। उनका एक लम्बा शोध लेख नेशनल बुक ट्रस्ट द्वारा प्रकाशित पुस्तक का एक हिस्सा है।

वैचारिक तत्त्व की प्रधानता ने इनके यात्रा-विवरणों को भी एक नयी तर्ज़ दी है। यूरोप भ्रमण का वर्णन करते हुए मीरा कांत ने 'प्रेत प्रश्नों के घिरते साये' में जिन अंतराष्ट्रीय प्रश्नों की निशानदेही की है वह उनकी तत्संबंधी गहरी समझ का सबूत है।

मीरा कांत के नाटक 'ईहामृग','भुवनेश्वर दर भुवनेश्वर', 'हुमा को उड़ जाने दो', 'अंत हाज़िर हो'' और 'प्रेम संबंधों की कहानियां'' की भूमिकाएं डा. सुषमा भटनागर ने लिखी हैं। ये भूमिकाएं परिष्कृत गद्य का नमूना होने के साथ ही इन नाटकों की आंतरिक लय की सम भी हैं।

1958 में श्रीनगर में जन्मी मीरा कांत ने दिल्ली विश्वविद्यालय से एम. ए. तथा जामिया मिल्लिया इस्लामिया से पीएच. डी. किया। शोध का विषय था — अंतरराष्ट्रीय महिला दशक में हिन्दी पत्रकारिता की भूमिका। राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण् परिषद (एन.सी.ई.आर.टी), नई दिल्ली में अक्टूबर २०११ तक सम्पादक के रूप में कार्यरत रहने के बाद मीरा कांत ने स्वैच्छिक निवृत्ति ग्रहण की । अब तक इन्हें अपने सृजन के लिए निम्न सम्मान प्राप्त हुए हैं —

 
  • उत्तर-प्रश्न (नाटक) के लिए मोहन राकेश सम्मान, 2008 (प्रथम पुरस्कार) साहित्य कला परिषद, नई दिल्ली।
  • साहित्यकार सम्मान 2005-2006, हिन्दी अकादमी, दिल्ली।
  • नेपथ्य राग (नाटक) के लिये मोहन राकेश सम्मान, 2003 (प्रथम पुरस्कार), साहित्य कला परिषद, दिल्ली।
  • ईहामृग (नाटक) के लिये सेठ गोविन्द दास सम्मान, 2003
  • तत:किम (उपन्यास) के लिये अम्बिका प्रसाद दिव्य स्मृति पुरस्कार, 2004
  • भुवनेश्वर दर भुवनेश्वर (नाटक) के लिये निष्ठा सांस्कृतिक मंच, गुड़गांव के छठे अखिल भारतीय नाटक महोत्सव में सर्वश्रेष्ठ कथानक पुरस्कार, 2006 और सर्वश्रेष्ट आलेख के लिये वाराणसी में छबीसवीं अखिल भारतीय हिन्दी नाटक प्रतियोगिता में डा.गोकुल चंद्र गांगुली स्मृति सम्मान, 2008
  • ’ऐसा हो तो कैसा हो’(फ़िल्म आलेख) को प्रथम पुरस्कार, स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार, 1992 ।  

मीरा कांत की रचनाएं हैं —

नाटक

उपन्यास

कहानी संग्रह

लम्बी कविताएं

  • तुम क्या निर्वस्त्र करोगे मुझे?
  • ध से धूल कब साफ़ होगी?  

बाल साहित्य

  • नाम था उसका आसमानी
  • ऐसे जमा रेल का खेल  

शोध

अनूदित साहित्य (अंग्रेज़ी)

  • इन द विंग्स (नेपथ्य राग) (नाटक)
    (साहित्य अकादेमी की पत्रिका 'इंडियन लिटरेचर' में मई-जून 2004 में प्रकाशित। अनुवाद : मनु विक्रमन)
  • हर्ड बट नेवर सीन (कन्धे पर बैठा था शाप/श्रूयते न तु दृश्यते) (नाटक)
    (साहित्य अकादेमी की पत्रिका 'इंडियन लिटरेचर' में जनवरी-फरवरी 2007 में प्रकाशित। अनुवाद : मनु विक्रमन)
  • डिसरोब मी वॉट यू विल! (कविता)
    (इम्फाल फ्री प्रैस, 2 जुलाई 2006 में प्रकाशित। अनुवाद : सुहासिनी और मनु)
  • ऑफ़रिंग ऑफ़ मेमोरीज़ (स्मृति-पिंड) (कहानी)
    (इंडियन काउंसिल फ़ॉर कल्चरल रिलेशन्स की पत्रिका 'इंडियन हॉराइज़न्स' में दिसम्बर 2008 में प्रकाशित। अनुवाद: रंजना कौल)
     
  • दि वेल्ड वन (रूपोश) (कहानी)
    (लंदन के प्रकाशन गृह 'पिकाडोर' से 2009 में प्रकाशित कहानी संग्रह 'द फ़ियर फ़ेक्टर' में संग्रहीत संपादक व अनुवादक - मीनाक्षी भारत)
  •  धामपुर ( कहानी )
    ( महात्मा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय की अंग्रेज़ी पत्रिका ' हिंदी ' में जुलाई - सितम्बर २००९ में प्रकाशित . अनुवाद : रंजना कौल )
     
  • समन द एंड (अंत हाज़िर हो) (नाटक)
    (महात्मा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय की अंग्रेज़ी पत्रिका ' हिंदी ' में जनवरी - मार्च २०११ में प्रकाशित. अनुवाद : वंदना आर. सिंह)
     
  • पेपर बैस्तियन एंड अदर स्टोरीज़ ( कहानी संग्रह )
    (रूपा पब्लिकेशन , २०११ , अनुवाद : रंजना कौल )

अनूदित साहित्य (भारतीय भाषाएं)

  • श्रूयते न तु दॄश्यते (कंधे पर बेठा थ शाप) (नाटक)
    (नव-अनुष्टुभ’ के सितंबर-दिसंबर 2007 अंक में मराठी में प्रकाशित । अनुवाद: रमेश सालुंखे)
  • कागज़ी बुर्ज ( कहानी )
    (' मोबाहिसा ' के वॉल्यूम ८ , अंक संख्या ३१ , २००९ में उर्दू में प्रकाशित . अनुवाद : मंज़र कलीम . )
  • नेपथ्य राग (नाटक)
    (मराठी में शीघ्र प्रकाश्य । अनुवाद: रमेश सालुंखे)
     
  • गली दुल्हनवाली (कहानी)
    (ई-पत्रिका Khoyab में बांग्ला में शीघ्र प्रकाश्य। अनुवाद: सोमा बंद्योपाध्याय)
  • काली बर्फ़ ( कहानी )
    (‘उत्तम अनुवाद’ के दीवाली 2009 अंक में मराठी में प्रकाशित। अनुवाद:वसुधा सहस्रबुद्धे)
  • कंधे पर बैठा था शाप
    (तेलुगू में ऐमेस्को बुक्स पब्लिकेशन , हैदराबाद से पुस्तकाकार रूप में शीघ्र प्रकाश्य। अनुवाद: डा.आर.सुमन लता)
  • काली बर्फ ( नाटक )
    (अर्शिया पब्लिकेशन , दिल्ली से उर्दू में शीघ्र प्रकाश्य . अनुवाद : इज़हार अहमद ' नदीम ' )









































 

 

fear factor

 

 

 

 

 

 

 

paper bastion

मीरा कांत द्वारा कश्मीरी से अनुवाद

लल द्यद — एन सी ई आर टी की कक्षा 9 की हिन्दी पाठय पुस्तक 'क्षितिज' के लिये कश्मीर की संत कवयित्री ललेश्वरी के चुनिंदा वाखों (पदों) का कश्मीरी से हिन्दी में अनुवाद।



मीरा कांत के साहित्य पर शोध 

    एम् .फिल .
  • दिल्ली विश्वविद्यालय से 'मीरा कांत के नाटक नेपथ्य राग में स्त्री-प्रश्न' विषय पर वर्ष 2007 में शोध संपन्न।
  • विनायक मिशन विश्वविद्यालय, सेलम, तमिलनाडु से 'मीरा कांत के नाटक: संवेदना एवं शिल्प' विषय पर वर्ष 2008 में शोध सम्पन्न।
  • डा. बाबा साहेब आम्बेडकर मराठ्वाडा विश्वविद्यालय, औरंगाबाद से ‘डा.मीरा कांत कृत नेपथ्य राग : एक अनुशीलन’ विषय पर वर्ष 2009 में एम. फिल. शोध सम्पन्न।
  • दिल्ली विश्वविद्यालय से 'विस्थापन की समस्या और मीरा कांत का नाटक काली बर्फ़' विषय पर वर्ष 2009 में शोध सम्पन्न|
  • कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के तत्वावधान में ' एक कोई था कहीं नहीं - सा उपन्यास में चित्रित नारी - चेतना ' विषय पर वर्ष 2010 में शोध संपन्न |

  • पी. एच .डी .
  • उस्मानिया विश्वविद्यालय, हैदराबाद से 'मीरा कांत : व्यक्‍तित्व एवं कृतित्व: एक अनुशीलन' विषय पर वर्ष 2011 में पीएच.डी. संपन्न |

  • दिल्ली विश्वविद्यालय से ' स्त्री प्रश्न और मीरा कांत के नाटक ' विषय पर शोध जारी .

Site best viewed in Internet Explorer 1024 by 768. All rights reserved.
Copyright@meerakant.com
Site Design and development by banyantreedesigns.com